सोमवार, 24 मई 2010

बीते हुए को लेकर बिताने वाले समय के साथ



अपने समय पर हस्तक्षेप करना, एक अधिकार होता है जो अतीत और वर्तमान के परिदृश्यों के बोध को केंद्र में रखकर निभाया जाता है. ताहम ने जिस वैचारिक आन्दोलन की भूमिका के साथ ब्लॉग जगत में प्रवेश किया था, अनिश्चितताएं, अनियमितता एवं तकनीकी समस्याएं, योजनाबद्ध तरीकों से कार्य रेखांकन में रोक बनती ही रहीं हैं. मगर कुछ प्रमाणिक बिन्दुओं को केंद्र में रखकर उसपर अधिक से अधिक वैचारिक मुबाहिसे लेखों, कविताओं पर मीमांसा का शगल भी सफल रहा है भले कुछ ही स्तर तक. और इस तरह ताहम ने आज २५ मई को अपना एक वर्ष पूरा किया.

भावी योजनाओं के अंतर्गत कुछ प्रश्न भी रखे जा सकते हैं. मुख्यतः जो आलेखों के मध्य किसी न किसी माध्यम से उपस्थित रहेंगे.

युवा लेखन में विचारधारागत लेखन की प्रतिबद्धता का टूटना और परिणामतः समकालीन साहित्य का सामाजिक सरोकार क्या हो सकता है ?, रंगमंच और मौलिकता, कहानी और उत्तर आधुनिकतावाद, सरलीकरण का दौर एवं भाषा विज्ञान. साहित्य की राजनैतिक,दार्शनिक,सामाजिक एवं नैतिक सम्बद्धता.

तथा ऐसे ही कई बिन्दुओं पर आलेख प्रस्तुत करने की योजना होगी.

_निशांत कौशिक

**********************


"ज़ुल्म अगर ज्यादा ही बढ़ गया हो
बढ़ा लेनी चाहिए अपनी कीमतें

कोड़ा खाने, चीखने चिल्लाने से होगा
यही बेहतर

अधिक दाम लेकर चुप रहना !! "

11 comments:

दिलीप ने कहा…

ant ka vichaar bada hi jaandaar laga...

सागर ने कहा…

शुभकामनाएं ! और हम इंतज़ार करेंगे

रवि कुमार, रावतभाटा ने कहा…

ब्रेख़्त की लाजवाब कविता का उम्दा पोस्टर...
थोड़ा सा लेखा-जोखा...और बेहतर योजनाएं...
अंत में झन्नाटेदार थप्पड़...

भई खूब...हम हैं ही...

डॉ .अनुराग ने कहा…

"ज़ुल्म अगर ज्यादा ही बढ़ गया हो
बढ़ा लेनी चाहिए अपनी कीमतें
कोड़ा खाने, चीखने चिल्लाने से होगा
यही बेहतर

अधिक दाम लेकर चुप रहना !! "




सच कहूँ तो हम सब बिके हुए ही है अलग अलग सौदों पे ........ये पंक्तिया कई रोज तक याद रहेगी.....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ज़ुल्म अगर ज्यादा ही बढ़ गया हो
बढ़ा लेनी चाहिए अपनी कीमतें
कोड़ा खाने, चीखने चिल्लाने से होगा
यही बेहतर

अधिक दाम लेकर चुप रहना

बिकी हुई दुनिया में खुद भी बिक जाना ज़रूरी है ... नही तो कोडियों के दाम भी नही लगेंगे ...
आने वाले समय की शुभकामनाएँ ....

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

यार बहुत ही ज़रूरी सवाल उठाया है तुमने…

यह पोस्टर मेल कर दो प्लीज़्…और ढेरों शुभकामनायें…

सुशीला पुरी ने कहा…

बहुत ही सुंदर .......

Ajmer hotels ने कहा…

I was very encouraged to find this site. I wanted to thank you for this special read. I definitely savored every little bit of it and I have bookmarked you to check out new stuff you post.

Hotels in Ajmer ने कहा…

Good efforts. All the best for future posts. I have bookmarked you. Well done. I read and like this post. Thanks.

Ajmer resorts ने कहा…

Thanks for showing up such fabulous information. I have bookmarked you and will remain in line with your new posts. I like this post, keep writing and give informative post...!

Ajmer hotels list ने कहा…

The post is very informative. It is a pleasure reading it. I have also bookmarked you for checking out new posts.

एक टिप्पणी भेजें

किसी भी विचार की प्रतिक्रिया का महत्व तब ही साकार होता है, जब वह प्रतिक्रिया लेख अथवा किसी भी रचना की सम्पूर्ण मीमांसा के बाद दी गयी हो, कविता को देखकर साधुवाद, बधाई आदि शब्दों से औपचारिकता की संख्या बढ़ा देना मात्र टिप्पणी की संख्या बढ़ा देना है. ताहम के प्रत्येक लेख/रचना जिसमें समझ/असमझ/उलझन के मुताल्लिक़ टिप्पणी को भले ही कम शब्दों में रखा जाए, मगर ये टिप्पणी अपने होने का अर्थ पा सकती है.रचना के प्रति आपके टिप्पणी का मीमांसात्मक/आलोचनात्मक वैचारिक प्रस्फुटन इसके अर्थ को नए तरीके से सामने ला सकता है

ताहम........